My Blogging Journey in Hindi 2022? – Manoj Kumar Blog

My Blogging Journey in Hindi 2022? – Manoj Kumar Blog (manojkideas.com) ब्लॉग बनाने से ब्लॉग से पैसे कमाने तक

नमस्कार दोस्तो, आज की पोस्ट मैं मनोज कुमार मेरी ब्लॉगिंग जर्नी (manojkideas.com) Blog के बारे में है जहाँ मैं आपको अपने इसी ब्लॉग के बारे में बताने वाला हूँ कि मैने यह ब्लॉग कब बनाया, क्यो बनाया, कैसे बनाया और आज की Date में यह ब्लॉग कितना सक्सेज है और इससे मैं कितनी Earning करता हूँ।

साथ ही मैं मनोज कुमार आपको अपने बारे में बताऊंगा सिर्फ वो बाते जो कही न कही इस ब्लॉग (manojkideas.com) और ब्लॉगिंग से जुड़ी है वैसे तो मैं कोई बहुत बड़ा ब्लॉगर नही हूँ और आज की Date में इस ब्लॉग से मात्र 100$+ पर महीने की Earning करता हूँ।

लेकिन इस पोस्ट को मेरा लिखने का मकसद ब्लॉगिंग के बारे में आप लोगो को सही जानकारी देना है जिस जानकारी से आप ब्लॉगिंग के बारे में काफी कुथ सीख सकते है और यह पोस्ट आपके लिए एक मोटीवेशन का कार्य करेगी क्योकि मेरी ब्लॉगिंग भी बहुत अच्छी नही रही है और जो कुछ भी मैने ब्लॉगिंग में सीखा है वो खुद सीखा है।

मैने अपने इस ब्लॉग पर Blogging के बारे में 50 से ज्यादा पोस्ट लिखा है और उन पोस्ट पर जो कमेंट आते है उसे पढ़कर मुझे ऐसा लगा कि ब्लॉगिंग सीखने वाले नये लोगो के लिए ऐसी ही एक पोस्ट होनी चाहिए जो आप लोगो को ब्लॉगिंग सीखने में मदद करने के साथ ब्लंगिंग करने के लिए मोटीवेशन भी दे सके।

इस पोस्ट (My Blogging Jurny in Hindi 2022 – Manoj Kumar Blog (manojkideas.com) ब्लॉग बनाने से आज पैसे कमाने तक को मैं आज 24/04/2022 से शुरू कर रहा हूँ जहाँ मैं अपने पिछले एक साल की ब्लॉगिंग जर्नी बताउंगा और भविष्य में जो कुछ भी इस ब्लॉग के साथ अच्छा सा बुरा होगा वो मैं यहाँ अपडेट करता रहुँगा जिसमें ब्लॉग की Earning जो भी घटेगी या बढ़ेगी वो हर साल अपडेट करूगा।

यहाँ Earning बताने का मेरा कोई मकसद नही है यह सिर्फ इस लिए होगा कि Earning देखकर ही ज्यादा लोगो को मोटीवेशन आता है जोश आता है तो अगर आप ऐसी कुछ पढ़ने में इच्छा रखते है तो इस पोस्ट को पूरा पढ़े इसमें ब्लॉगिंग करने के बारे में आप बहुत कुछ सीख सकते है तो आइए सबसे पहले मैं आपको कुछ अपने बारे में बताता हूँ।

Manoj Kumar Blog (मालिक और राइटर)

दोस्तो जैसा कि मेरा नाम मनोज कुमार है और मैं जखनियां गाजीपुर उत्तर प्रदेश का रहने वाला हूँ मेरे ब्लॉग को पढ़ने वाले कुछ बाहरी देश के लोग भी है तो उनके लिए यह उत्तर प्रदेश भारत (India) में है।

मेरा जन्म तारीक कंफर्म मुझे नही मालूम नही क्योकि मेरे माता – मिता पढ़े – लिखे नही थे तो उन्हे नही पता नही है वो बस बैसाक चैत जानते है वही बताते है उन्हे सन् पता ही नही है एक अंदाजा है जो स्कूल के समय मेरी आयु निश्चित किया गया 02/01/1991 जो इसी आयु से लोग मुझे जानते है और मेरे सभी डाक्यूमेंट पर यही आयु दी भा गयी है।

मैं एक बहुत ही गरीब परिवार से हूँ ऐसा गरीब परिवार जहाँ भर पेट खाना तो मिला प्यार मिला लेकिन इसके सिवा कुछ नही है ना स्कूल भरने की फीस, ना कोई आजादी, ना पहनने को ढंग के कपड़े हम दो भाई और एक बहन है जिसमें भाई बड़ा मैं छोटा और बहन मुझसे छोटी है।

हमारी गरीबी इस कदर रही कि मैं और मेरे भाई सरकारी स्कूल में पढ़ते थे जहाँ एक रुपये भी फीस नही लगता था और उस समय महीने में एक बार स्कूल से 3 kg चावल मिलता था वह स्कूल कक्षा पाँचवी तक था है मैने वहाँ पाँचवी तक पढ़ाई किया और स्कूल की सभी कक्षा में मैं टापर था

पाँचवी के बाद मैने दूसरे सरकारी स्कूल में कक्षा 6 में नाम लिखवाया वहाँ मैं 6 महीने पढ सका क्योकि उस स्कूल में कुछ फीस थी जो पूरे साल का 15 रूपये था और यह साल में एक ही बार देना होता था यह फीस मैं नही दे पाया और मुझे स्कूल से निकाल दिया गया मैं इसके बाद उस साल बिल्कुल नही पढ सका।

फिर अगली साल मैने कक्षा 7 में एक प्राईवेट में प्रवेश लिया जहाँ महीने 30 रूपये फीस था यह साहस मैं इस लिए कर पाया कि मेरे बाई अब तक 10 वी पास कर चुके थे और इसके साथ वह दूसरे के काम भी करते थे जहाँ कुछ कमा लेते थे क्योकि मेरे पिता जी सिर्फ मजदूरी करते है जहाँ हर रोज का 50 रूपये मिलता था जो खाना खाने तक ही हो पाता था।

लेकिन मेरे भाई के काम शुरू करने से मैं प्राइवेट स्कुल में जा सका और वहाँ पढना शुरू किया लेकिन साल जो मैने 6 महीने की पढाई नही किया उससे मुझे इतना नुकसान हुआ कि मैं अब अपने क्लास में टॉपर नही सका फिर भी मै पढ़ने में ठीक था और स्कूल से मैने 10 वी पास किया 70% मार्क से लेकिन फिर भी मैं टॉपर नही था।

और अब तक मेरा भाई 12 वी पास करके पढ़ाई छोड चुका था और मजदूरी करना शुरू कर दिया था और मेरे ऊपर भी प्रेशर शुरू की पढाई में कुछ नही रखा कोई काम सीखो

यहाँ गांव में लोग काम भी क्या सीखने को बोलते है राज मिस्ट्री बन जा, भट्टा का मिस्ट्री बन जा, पलम्बर मिस्ट्री बन जा, उसी समय मेरे मामा जो B.A पास करके सरकारी अध्यापक की नौकरी ढूँढ रहे थे और 10 साल ऐसा करके थक चुके थे वो मेरे घर आये और सभी के सामने बोले नौकरी पाने के लिए पैसे घूस चाहिए पढ़ – लिखकर क्या करोगे कोई काम सीख लो अपना उदाहरण किया जहाँ मेरे माता – पिता को उनकी बात अच्छी लगी और मुझे स्कूल छोड़ने के लिए विवस कर दिया।

और मुझे एक गैरेज पर दो पहिया बाइक बनाने का काम सीखने पर लगया वह छोटी सी एजेंसी थी है जहाँ न्यू गाड़ी सेल होने के साथ पुरानी बाइक रिपेयर होती थी यहाँ मुझे काम सीखने का कोई पैसा नही मिलता था ऊपर टाइम पर जाकर एजेंसी खोलना साफ – सफाई करना और वहाँ 10 घण्टे रोज बैठे रहना पड़ता था।

क्योकि वह एजेंसी थी तो न्यू बाइक ज्यादा बिकती थी पुरानी बहुत कम बनती थी तो सीखने को भी कम मिलता था बस उस एजेंसी वाले का गुलामी कर रहा था।

इसलिए 5-6 महीने काम करके मैने वह काम छोड़ दिया और एक लड़के के साथ सुरत गुजरात चला गया है वहाँ कपड़े पर कड़ाई का काम सुरू किया और कुछ ही दिनो में मुझे महीने के 12 हजार रूपये मिलने लगा यह रकम मेरे और मेरे परिवार के लिए बहुत बड़ी रकम थी इसी कारण मेरा भाई भी अपना काम छोड़कर मेरे पास गुजरात आ गया जिसका विवाह हो भी इसी बीच हो चुका था और यही कार्य वो भी करने लगा।

अब कुछ ही दिन में हमारी कमाई 12 से 24 रूपये हो गयी दोनो भाई का मिलाकर हमने वहाँ पाँच साल तक रहा लगातार नही घर आते जाते थे जिसमें हमने 5 से 7 लॉख रूपये बचाया इस पैसे से हमने अपना मकान बनाया जिसमें 6 रूम बना और अपने बहन का विवाह किया जिसमें 3 लॉख रुपये तक विवाह में खर्च हुआ और बाकी मकान बनाने में लगा।

इसके बाद जिस मालिक के यहाँ हम गुजरात में काम करते थे वह अपना सारा काम बंद कर दिया क्योकि वह काफी शराबी हो चुका था और उसके जैसा हमें कोई दूसरा मालिक मिला इसलिए हम गुजरात छोड़कर घर आ गये मेरे भाई ने अपना पुराना कार्य फिर शुरू कर लिया और वह राज मिस्ट्री बन गया जहाँ 500 रूपये रोज मिलने लगा और मैं हो गया बेरोजगार।

मनोज कुमार पहली Online Mobile से Income?

लेकिन गुजरात में पैसे कमाने का फायदा हुआ कि अपने पास एक Android Mobile आ चुका था जिससे में इंटरनेट के बारे में इतना कुछ सीख लिया था कि Facebook पर मैं बहुत ऑन रहता था आलतू – फालतू काम कर लेता था लेकिन इंटरनेट से पैसे कमाने के बारे में नही जानता था।

लेकिन जब घर आकर बिल्कुल फ्री रहने लगा तो कुछ दोस्तो से पता चला कि हम Paytm में कुछ पैसे कमा सकते है मनी ट्रांसफर करके मोबाइल रिचार्ज करके, Add Money करके तब मैं घर आकर दूसरे व्यक्ति का एक मोबाइल रिचार्च किया था 50 रूपये का जिसमें मुझे 20 रूपये का कैशबैक मिला जो मेरा इंटरनेट से पहली कमाई थी इस 20 रूपये के कैशबैक ने मुझे इतना खुशी दिया कि मैने दूसरे का 50 रूपये का रिचार्ज किया था वह पैसा उससे लेना है यह भी भुल गया।

खैर वह व्यक्ति मेरे पड़ोस का था तो वह कुछ दिन बाद वह पैसे अपनी इमानदारी से दिया लेकिन अब मुझे रिचार्ज करके कैशबैक पाने का तरीका पता हो चुका था अब मैं बहुत से लोगो के रिचार्ज करने लगा जिससे रोज 100 – 50 रूपये मिल जाते थे जिसमें मैं Paytm के कुछ और ऑफर्स भी लेता था।

यहाँ मैं अलग – अलग Paytm एकाउंट बनाने लगा और सभी एकाउंट से पैसे कमाने की कोशिश करने लगा जिसमें कुछ कमाई बड़ी और रोज 100 – 200 रूपये कमाने लगा।

तभी Paytm App में एक Update आता है जहाँ Paytm कुछ कैशबैक कम कर देता है और दूसरे नंबर के एकाउंट को लॉगइन करने के लिए Otp मागने लगता है क्योकि मैने बहुत से एकाउंट बनाया था तो सभी मोबाइल नंबर मेरे पास नही था अब जो कमाई हो रही थी अब वो बंद हो गयी कुछ दिन मैं परेशान रहा।

मनोज कुमार का पहला ब्लॉग?

एक दिन Youtube पर कुछ देख रहा था जहाँ मुझे ब्लॉगर पर ब्लॉग बनाकर पैसे कमाने के बारे में बताया गया इस Video में सिर्फ ब्लॉगर पर ब्लॉग बनाने के तरीके के बारे में विस्तार से स्टेप बाई स्टेप बताया गया था।

तो मैं उसी तरीके को फालो करके अपना ब्लॉगर पर ब्लॉग बना लिया लेकिन इसके बाद मुझे कुछ तरीका नही पता था तो आगे कुछ कर भी नही पाया और उस ब्लॉग को छोड दिया ।

मनोज कुमार पहला Youtube Channel

कुछ दिन बाद फिर मैने Youtube पर ही एक Video देखा जहाँ Youtube Channel बनाने और पैसे कमाने के बारे में बताया गया इस Video को देखकर मैं अपना Youtube Channel भी बना लिया और उस पर भी काम नही किया उसे छोड दिया।

फिर मै इस इंटरनेट से पैसे कमाने से बिल्कुल मुक्त होकर फिर हरियाणा चला गया यहाँ मैं हरियाणा एक साल ही रहा कुछ कंपनी में काम किया फिर वह काम भी छोड़कर घर आ गया यहाँ समझ नही आ रहा था कि आखिर किया क्या जाय।

यहाँ ब्लॉग बनाने हरियाणा आने जाने में में 4 साल निकल गया है फिर मैं एक दिन Youtube पर कुछ देख ही रहा था कि Blogger पर ब्लॉग बनाने वाला दुसरा Video मुझे मिला जिसमें ब्लॉग बनाने से लेकर ब्लॉग पर कार्य करने और पोस्ट लिखने के बारे में बताया गया।

यहाँ पोस्ट लिखने के बारे में यह बताया गया कि आप ब्लॉग में अपनी जीवनी लिख सकते क्या कर रहे है कैसे कर रहे आपकी लाइफ क्या हो रहा इस तरह की पोस्ट लिखने के बारे में बताया गया।

My Blogging Journey in Hindi 2022 – मनोज कुमार ब्लॉग

फिर मैं तुरंत फिर से Blogger पर Blog बनाने गया क्योकि मेरी वही Email Id आज भी लॉइन थी तो मेरा वही पुराना ब्लॉग खुल गया जिसका मैने नाम दिया India करके कुछ नाम दिया था उसी ब्लॉग को मैने कुछ कस्टोमाइज किया जैसा Video में बताया गया था और अपनी आप बीती कहानी लिखना शुरू किया।

जिसमें मैने अपने गुजरात जाने की एक घटना लिखा, मै क्या सोचता हूँ ऐसी एक पोस्ट लिखा इसी तरह की 6 पोस्ट लिखा

तभी इंटरनेट पर कुछ सर्च कर रहा था कि सतीश कुशवाहा ब्लॉग पर एक पोस्ट मिली मसाई स्कूल के बारे में वह पोस्ट मुझे इतना अच्छी लगी कि मैने उस पोस्ट कापी करके अपने ब्लॉग पर अपलोड करके पब्लिश कर दिया।

सुबह ब्लॉगिंग के बारे में कुछ देख रहा था जिसमें मुझे पता चला कि किसी की पोस्ट को हम कापी करके अपने ब्लॉग पर नही डाल सकते है फिर मैं तुरंत उस कापी पोस्ट को डिलिट किया जो अभी तक Index भी नही थी फिर मैने उस Masai School वाली पोस्ट को अपने शब्दो में लिखा तीन दिन में कंपलिट करके अपने ब्लॉग पर पब्लिश किया।

और कुछ ही दिन में मेरी यह पोस्ट सतीश कुशवाहा की पोस्ट से पहले रैंक कर गयी इसपर पोस्ट पर विषेश ट्रॉफिक तो नही था क्योकि आज नही है तो एक साल पहले तो और कम रहा होगा और मुझे ट्रॉफिक देखना भी नही आता है लेकिन मन में एक विश्वाश था कि मेरी लिखी पोस्ट गूगल में रैंक हो सकती है तब तक मैं Domain के बारे में थोड़ी जानकारी हासिल कर लिया था कि ब्लॉग के लिए कस्टम डोमेन कितना जरूरी है।

यह विश्वाश ही मुझे एक Domain खरीदने पर विवश किया manojkideas.com अचानक से मैने यह नाम और Domain क्यो लिया ये भी जान लिजिए।

मै सतीश कुशवाहा डॉट कॉम ब्लॉग को ही देखा था तो मैने भी manojkumar.com Domain लेने गया लेकिन यह उपल्ब्ध ही नही था मैं कोई Domain का नाम ही ढूँढ रहा था कि मेरे पड़ोस की एक भाभी आई और किसी मोबाइल नंबर मागा।

मैं वह नंबर अपने मोबाइल में खोज रहा था कि मेरी बहन का नंबर सामने आया जहाँ मैने बहन का नाम लिखा था और उसके सिम कार्ड का नाम लिखा था मतलब बहन का नाम आगे Idea लिखा था क्योकि उसकी सिम आइडिया की थी और उस समय Idea से Idea Free बात होती है बस पहचान के लिए ऐसा टाइटल लिख दिया था वह नाम देखकर पड़ोस की भाभी हँसी और उस नाम का मजाक बनाया इस अंदाज में कि जो एक देवर और भाभी की मजाक करने की आदत होती है।

फिर वह भाभी चली गयी उसके बाद मैं सोचा यह टाइटल मेरे नाम के साथ कैसा रहेगा फिर मेरे ध्यान में आया कि हम ब्रांड नेम Domain में Use करते है तभी मेरे दिमाग में सतीश कुशवाहा का ही Youtube Channel आया सतीश के वीडियोज फिर इसी तर्ज पर मैने अपने ब्लॉग को नाम दिया Manoj K Ideas और यह manojkideas.com डोमेन खरीदा

इसे खरीदने के बाद इसे Blogger में Add करना मेरे लिए मुश्किल हुआ तीन दिन ये Domain Add करने में मुझे लगा लेकिन Add हो गया लेकिन फिर समस्या आई Blog URL की क्योकि Domain Add किया तो URL चेंज हो गया जो पहले India कुछ नंबर blogspot.com था जो ब्लॉगर से फ्री में मिला था।

यहाँ URL चेंज होने से पूरी सेटिंग बिगड़ गयी जिसे ठीक करने में मुझे कुछ दिन समय लगा सब कुछ ठीक करने के बाद मेरे ब्लॉग पर पड़ी 6 पोस्ट में से तीन पोस्ट मुझे लगा किसी काम की नही है तो डिलिट कर दिया और अगले 22 दिन में मैं पाँच पोस्ट और लिखा 22 दिन में पांच पोस्ट क्योकि मैं मोबाइल से ब्लॉग लिखाता हूँ और ब्लॉग लिखने से ज्यादा मुझे ब्लॉग डिजाइन करने में मजा आ रहा था।

इस 22 दिन में मैं पाँच रात पूरा जगा सिर्फ ब्लॉग की डिजाइन को लेकर दिन भर तो करता ही था इस 22 दिन में मैने 50 से ज्यादा Theme चेंज किया और हजारो बार डिजाइन किया जब मुझे लगा कि मेरा ब्लॉग अच्छा डिजाइन हो गया है तो इस 8 पोस्ट के साथ मैं Google Adsense को अप्लाई करने करने गया जहाँ मुझे Google Adsense का एकाउंट बनाना ही नही पड़ा।

वो पता नही कब अनजाने में ही बना गया था और Approvel के लिए भेजा जा चुका था जो उसी तरह पेडिंग पड़ा था मैं इसको देखकर ही वापस आप गया और Google Adsense के Approvel पाने के के तरीके खोजने लगा।

जहाँ मुझे जानकारी मिली पेडिंग पड़े एकाउंट को डिलिट करो और दूसरा एकाउंट बनाओ मैने फिर उस Google Adsense Account के डिलिट किया और Video में बताये गये तरीके से फिर Google Adsense का एकाउंट बनाया Approvel के लिए भेजा।

18 घण्टे में ही मुझे Email पर सुचना मिली कि मुझे Approvel मिल गया फिर मैने कुछ Video देखा और Google Adsense की Ads को Blog पर लगाया यहाँ मुझे ज्यादा पता नही था तो मैने ऑटो Ads बस ऑन किया जिससे मेरे ब्लॉग पर Ads दिखने लगी।

लेकिन 12 दिन में मुझे कुछ भी Earning नही हुआ तब मुझे समझ आया कि Google Adsense के Approvel मिलने का फायदा क्या हुआ जब कोई कमाई ही नही हो रही है क्योकि मेरे ब्लॉग पर कोई ट्रॉफिक ही नही था तो Earning भी नही हो रही थी।

लेकिन Google Adsense के Approvel मिलना मेरे लिए लकी रहा जो मुझे अब ये प्रेरणा दे रहा था कि मुझे ब्लॉग के ट्रॉफिक को बढ़ाना चाहिए जिसके लिए मुझे ज्यादा से ज्यादा पोस्ट लिखना होगा और ब्लॉग पर ट्रॉफिक लाना होगा।

यहाँ से मैने हर दो दिन में एक ब्लॉग पोस्ट लिखना शुरू किया क्यो मैं मोबाइल से ही यह सारा कुछ काम कर रहा था जब मैने 20 पोस्ट तक लिखा तो कुछ ट्रॉफिक देखने को मिला जो कुछ 0.40 $ की Earning हुई Google Adsense में यह Earning देखकर मुझे और खुशी हुई और अब मैं ज्यादा मेहनत करके रोज एक पोस्ट लिखने लगा कभी गैप भी होता था।

मैने 40 पोस्ट लिखा जिससे कुछ आधा डॉलर रोज की Earning होने लगा ये आधा – आधा डॉलर मेरा 10 $ कंपलिट कर दिया जहाँ मैने Adsense Pin भेजने का भी कार्य कर लिया।

तभी मेरे दिमांग में Blogger से WordPress पर जाने की बात आई क्यो उस समय भी मेरा ज्यादा समय ब्लॉग को डिजाइन करने में ही जा रहा मैं ब्लॉगर की किसी Theme से 5 दिन से ज्यादा खुश ही नही रह पाया।

इसी कारण वर्डप्रेस पर जाने का निर्णय किया लेकिन मेरे लिए Blogger से WordPress पर जाना बिल्कुल भी आसान नही था जो मै जानता भी था फिर भी मैने Hostinger का सिंगल वेब होस्टिंग जो करीब 1700 रूपये में खरीदा और अपने इस ब्लॉगर ब्लॉग को WordPress पर सिप्ट करना शुरू किया।

मैं Video देखकर लगभग सारा काम मोबाइल से कर दिया जिसमें 2 दिन लगा क्योकि में Video देख – देखकर करता था।

लेकिन फिर मुझे यहाँ समस्या आई ब्लॉग URL को लेकर क्योकि मेरे पास 40 से ज्यादा पोस्ट थी तो मैं URL चेंज नही करना चाहता था जिसके लिए मैने तीन दिन प्रयास किया कि URL चेंज ना करना पढ़े जिसमें मैं सफल भी रहा जैसा ब्लॉगर पर URL होता है वही URL मैने WordPress पर बना लिया

उसके बाद मुझे समझ आया कि क्या मैं जिंदगी भर इस ब्लॉग के Url में Date, Html जैसी फालतू चीजे दिखाउंगा आज 40 पोस्ट है आने वाले समय में 400 या इससे ज्यादा होगी क्यो ना मैं URL से फालतू चीजे हटा ही देता हूँ फिर मैने सिम्पल WordPress का Url बनाया जिससे मुझे बहुत बड़ा नुकसान नुकसान हआ।

जो कुछ भी थोड़ा बहुत पोस्ट रैंक कर रही थी अब वह फिर से नये Url पर Index हुई और अपनी पूरानी रैंकिंग खो दिया अब फिर से कोई Earning नही हो रही थी लेकिन कुछ ही 10 दिन के अंदर मेरी पुरानी पोस्ट फिर से वही रैंकिंग पकड़ लिया।

अब इसका मतलब ये नही कि बहुत ट्रॉफिक आने लगा रोज के कुछ User दिख रहे थे यहाँ पर एक महीना हो चुका था और मेरा Google Adsense pin नही आया मैने दूसरा अप्लाई किया वो भी नही आया।

ब तीसरा करने की बारी आ रही थी कि मैं अपने पोस्ट मैन से मिला तो वह बोला मेरे पास दो पिन आया है मनोज कुमार नाम से लेकिन उसपर ना पिता का नाम है और ना मोबाइल नंबर है इसलिए मै देने नही आ पाया वहाँ से मुझे पिन मिल गया जिसको मैने वेरिफाई कर लिया अब मेरे Google Adesnse में 100$ पूरे होने का मात्र वेट था जो उस समय 25$ तक पहुँचा था।

यहाँ से मै ब्लॉग पर 18 घण्टे रोज देने लगा जहाँ मैं मोबाइल से ही एक दिन में दो पोस्ट भी लिख देता था लेकिन इस महीने में मैने 40 पोस्ट लिखा और इस महीने 24$ की और Earning हुई अर्थात अब 49$ के आसपास हो गया।

फिर अगले महीने मैने 23 पोस्ट लिखा जिसमें ज्यादा से ज्यादा पोस्ट अपडेट किया और इस महीने मुझे मिला 52$ के आसपास अर्थात मेरा 100$ पूरा हूरा 102$ कुछ प्वाइंट था फिर अगले महीने मैे 60$ के ऑसपास कमाया और वह 102$ की पेमेंट मेरे बैंक एकाउंट में आ गया था 29 तारीक को।

यहाँ मेरा इसी तरह पेमेंट बढ़ता रहा जहाँ 60$ से 55$ हुआ फिर 70$ हुआ पिछले महीने 88$ हुआ और इस महीने 04/22 इस 25 तारिक को ही 100$ पूरे हो गये जो मेरा पहला महीना है जिसमें 100$ पूरा किया है।

अगर मैं आज अपने ब्लॉग के ट्रॉफिक की बात करू तो मैं आज भी Google Analytics Use नही करता हूँ और मैने गूगल Adsense में देखा था रोज का 500 + Page Views आता है।

और कुछ जानकारी मैं अगले महीने अपडेट करूंगा My Blogging Journey in Hindi 2022? – Manoj Kumar Blog के बार में धन्यवाद

Leave a Comment